YDMS चर्चा समूह

बिकाऊ मीडिया -व हमारा भविष्य

: : : क्या आप मानते हैं कि अपराध का महिमामंडन करते अश्लील, नकारात्मक 40 पृष्ठ के रद्दी समाचार; जिन्हे शीर्षक देख रद्दी में डाला जाता है। हमारी सोच, पठनीयता, चरित्र, चिंतन सहित भविष्य को नकारात्मकता देते हैं। फिर उसे केवल इसलिए लिया जाये, कि 40 पृष्ठ की रद्दी से क्रय मूल्य निकल आयेगा ? कभी इसका विचार किया है कि यह सब इस देश या हमारा अपना भविष्य रद्दी करता है? इसका एक ही विकल्प -सार्थक, सटीक, सुघड़, सुस्पष्ट व सकारात्मक राष्ट्रवादी मीडिया, YDMS, आइयें, इस के लिये संकल्प लें: शर्मनिरपेक्ष मैकालेवादी बिकाऊ मीडिया द्वारा समाज को भटकने से रोकें; जागते रहो, जगाते रहो।।: : नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक विकल्प का सार्थक संकल्प - (विविध विषयों के 28 ब्लाग, 5 चेनल व अन्य सूत्र) की एक वैश्विक पहचान है। आप चाहें तो आप भी बन सकते हैं, इसके समर्थक, योगदानकर्ता, प्रचारक,Be a member -Supporter, contributor, promotional Team, युगदर्पण मीडिया समूह संपादक - तिलक.धन्यवाद YDMS. 9911111611: :

Tuesday, May 3, 2016

मनोज कुमार को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार

मनोज कुमार को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार 
मनोज कुमार को दादा साहेब फाल्के पुरस्कारन दि,03 मई (तिलक)। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मंगलवार को बॉलीवुड अभिनेता मनोज कुमार को वर्ष 2015 के 47वें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया। वहीं अमिताभ बच्चन को फिल्म पीकू के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और तनु वेड्स मनु रिटन्र्स में श्रेष्ठ अभिनय के लिए कंगना राणावत को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिया गया। 
ज्ञात हो, मनोज कुमार यह नाम सुनते ही देश भक्ति का संचार होने लगता है। जब शहीद, उपकार, पूरब  पश्चिम, क्रांति जैसी धारा की फिल्में युवाओं को दिशा दे रही थी, तत्कालीन व्यवस्था ने उनका उचित सम्मान नहीं किया, किन्तु आज जब वे इनसब से किनारा कर गए किन्तु सत्ता परिवर्तन हो गया; तब उनका भी समय का सूर्योदय हुआ, विलम्बित किन्तु उचित सम्मान प्राप्त हुआ। 
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मंगलवार को यहां विज्ञान भवन में आयोजित एक समारोह में 78 वर्षीय मनोज कुमार को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया। यह पुरस्कार भारत सरकार की ओर से फिल्म जगत में महत्वपूर्ण योगदान के लिए दिया जाता है। इसमें स्वर्ण कमल, एक शाल और 10 लाख रुपये की नकद राश‍ि शामिल है। इस अवसर पर अभिनेता मनोज कुमार ने राष्ट्रपति को सांई बाबा की प्रतिमा भेंट की। 
इसके अतिरिक्त 'बाहुबली' को सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 
फिल्म के निर्देशक एसएस राजमोली ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से सम्मान प्राप्त किया। वहीं बाजीराव मस्तानी के लिए संजय लीला भंसाली को सर्वश्रेष्ठ निर्देशक पुरस्कार दिया गया। तन्वी आजमी को बाजीराव मस्तानी में सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के लिए सम्मानित किया गया। सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म के लिए बजरंगी भाईजान के निर्देशक कबीर खान को पुरस्कार दिया गया। इसके अतिरिक्त विशाल भारद्वाज को सर्वश्रेष्ठ पटकथा के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिया गया। 
http://rachnaakaarkaa.blogspot.in/2016/05/blog-post.html 
जीवन का अर्थ साँस लेना मात्र नहीं, जीवन के महत्त्व व उद्देश्य को समझ उसे सार्थक करना है। 

No comments: